Heart Broken Status || Broken Heart Sad Whatsapp Status

By | June 11, 2020

Heart Broken Status:-Enjoy the Latest Collection of Heart Broken Status, broken Sad Whatsapp Status for Girls and Boys,Because everyone wants different Status for Social Share.

 

Heart Broken Status:-

Heart Broken Status:-

आज हम उनको बेवफा बताकर आए हैं,
उनके खतो को पानी में बहाकर आए हैं,
कोई निकाल न ले उन्हें पानी से..
इस लिए पानी में भी आग लगा कर आए हैं।

 

समंदर में उतरता हूँ
तो आँखें भीग जाती हैं,
तेरी आँखों को पढ़ता हूँ
तो आँखें भीग जाती हैं,
तुम्हारा नाम लिखने की
इजाज़त छिन गई जबसे,
कोई भी लफ्ज़ लिखता हूँ
तो आँखें भीग जाती हैं।

 

अभी से क्यों छलक आये तुम्हारी आँख में आँसू,
अभी छेड़ी कहाँ है दास्तान-ए-ज़िंदगी मैंने।

 

 

Raat Ki Gehrayi Aankhon Mein Utar Aayi,
Kuchh Khwaab The Aur Kuchh Meri Tanhai,
Yeh Jo Palko Se Bah Rahe Hain Halke Halke,
Kuchh Toh Majboori Thi Kuchh Teri Bewafai.

 

ना मिलता ग़म तो बर्बादी के अफसाने कहाँ जाते,
चमन होती अगर दुनिया… तो वीराने कहाँ जाते,
चलो अच्छा हुआ अपनों में कोई ग़ैर तो निकला,
सभी होते अगर अपने ही तो बेगाने कहाँ जाते।

 

 

Najar Najar Se Milegi Toh Sar Jhuka Lega,
Woh Bewafa Hai Mera Imtihaan Kya Lega,
Use Chiraag Jalaane Ko Mat Kah Dena.
Woh Nasamjh Hai Kahin Ungliyan Jala Lega.

 

आज अश्क से आँखों में क्यों हैं आये हुए,
गुजर गया है ज़माना तुझे भुलाये हुए।

 

 

Tu Ishq Ki Doosari Nishani De De Mujhko,
Aansoo Toh Roj Gir Ke Sookh Jate Hain.

 

 

तू इश्क की दूसरी निशानी दे दे मुझको,
आँसू तो रोज गिर कर सूख जाते हैं।

 

Zindagi Log Jise Marham-e-Gham Jante Hain,
Kis Tarah Humne Gujaari Hai Hum Hi Jante Hain.

 

 

ये मुकरने का अंदाज़ मुझे भी सिखा दे कोई,
वादे निभा-निभा के अब थक गया हूँ मैं।

 

Raha Yoon Hi NaMukammal Gham-e-Ishq Ka Fasana,
Kabhi Mujhko Neend Aayi Kabhi So Gaya Zamana.

 

 

न हाथ थाम सके और न पकड़ सके दामन,
बहुत ही क़रीब से गुजर कर बिछड़ गया कोई।

 

 

जब्त से काम लिया दिल ने तो क्या फ़िक्र करूँ,
इसमें क्या इश्क़ की इज्ज़त थी कि रुसवा न हुआ,
वक्त फिर ऐसा भी आया कि उससे मिलते हुए,
कोई आँसू भी ना गिरा कोई तमाशा ना हुआ।

 

Phir Aaj Aansuon Mein Nahayi Huyi Hai Raat,
Shayad Humari Tarah Hi Sataayi Huyi Hai Raat.

 

Na Haara Hai Ishq Na Duniya Thaki Hai,
Diya Jal Raha Hai Hawa Chal Rahi Hai,
Sukoon Hi Sukoon Hai Khushi Hi Khushi Hai,
Tera Gham Salamat Mujhe Kya Kami Hai.

 

 

Zabt Se Kaam Liya Dil Ne To Kya Fiqr Karoon,
Ismein Kya Ishq Ki Izzat Thi Ke Ruswaa Na Hua,
Waqt Fir Aisa Bhi Aaya Ke UsSe Milte Huye,
Koi Aansoo Bhi Na Gira Koi Tamasha Na Hua.

 

Khushk Aankhon Se Bhi Ashqon Ki Mahek Aati Hai,
Main Tere Gham Ko Zamane Se Chhupaaun Kaise.

 

 

Wahan Se Paani Ki Ek Boond Bhi Na Nikli,
Tamaam Umr Jin Aankhon Ko Jheel Likhte Rahe.

 

 

Ab To Iss Raah Se Wo Shakhs Gujarta Bhi Nahi,
Ab Kis Ummid Pe Darwaaze Se Jhanke Koi.

 

Yeh Gam Ke Din Bhi Gujar Jayenge Yun Hi,
Jaise Woh Raahton Ke Zamane Gujar Gaye.

 

 

अब तो इस राह से वो शख़्स गुजरता भी नहीं,
अब किस उम्मीद पे दरवाज़े से झाँके कोई।

 

Mere Gam Ne Hosh Unke Kho Diye,
Woh Samjhate Samjhate Khud Hi Ro Diye.

 

 

ठुकरा के उसने मुझे कहा ​कि मुस्कुराओ,
मैं हँस दिया सवाल उसकी ख़ुशी का था,
मैंने खोया वो जो मेरा था ​ही नहीं कभी,
उसने खोया वो जो सिर्फ उसी का था।

 

 

चेहरे अजनबी हो जाये तो कोई बात नहीं,
मोहब्बत अजनबी होकर बड़ी तकलीफ देती है।

 

 

एक न एक दिन मैं ढूँढ ही लूंगा तुमको,
ठोंकरें ज़हर तो नहीं कि खा भी ना सकूँ।

 

Bichhad Gaye Hain Jo Unka Saath Kya Maangu,
Jara Si Umr Baqi Hai Gam Se Nijaat Kya Maangu,
Woh Saath Hote To Hoti Zaruratein Bhi Hamein,
Apne Akele Ke Liye Kaynaat Kya Maangu.

 

 

खोया इतना कुछ कि हमें पाना न आया,
प्यार कर तो लिया पर जताना न आया,
आ गए तुम इस दिल में पहली नज़र में,
बस हमें आपके दिल में समाना ना आया।

 

 

Mat Chaaho Kisiko Itna Tootkar Zindagi Mein,
Agar Bichhad Gaye To Har Adaa Tang Karegi.

 

 

तुम भी कर के देख लो मोहब्बत किसी से,
जान जाओगे कि हम मुस्कुराना क्यों भूल गए।

 

किसे सुनाएँ अपने ग़म के चन्द पन्नो के किस्से
यहाँ तो हर शख्स भरी किताब लिए बैठा है।

 

 

मोहब्बत से इनायत से वफ़ा से चोट लगती है,
बिखरता फूल हूँ मुझको हवा से चोट लगती है,
मेरी आँखों में आँसू की तरह इक रात आ जाओ,
तकल्लुफ़ से, बनावट से, अदा से चोट लगती है।

 

 

लोग पढ़ लेते है आँखों से मेरे दिल की बात,
अब मुझसे तेरे गम की हिफाजत नहीं होती।

 

 

आज फिर मैंने तेरे प्यार में कमी देखी,
चाँद की चाँदनी में भी कुछ नमी देखी,
उदास होकर लौट आए उस वक़्त हम,
जब तेरी महफ़िल गैरों से सजी देखी।

 

तेज रफ़्तार जिंदगी का ये आलम है दोस्तों,
सुबह के गम भी शाम को पुराने लगते हैं।

 

 

सौ बार चमन महका सौ बार बहार आई,
दुनिया की वही रौनक दिल की वही तन्हाई।

 

 

Mohabbat Se, Inayat Se, Wafa Se Chot Lagti Hai,
Bikharta Phool Hun MujhKo Hawa Se Chot Lagti Hai,
Meri Aankhon Mein Aansoo Ki Tarah Ek Raat Aa Jaao,
Takalluf Se, Banawat Se, Adaa Se Chot Lagti Hai.

 

 

 

कोई ख्वाब था, बिखर गया, ख्याल था मिला नहीं,
मगर इस दिल को क्या हुआ ये क्यूँ बुझा पता नहीं,
तमाम दिन उदास दिन, तमाम शब उदासियाँ,
किसी से कोई बिछड़ गया, जैसे कुछ बचा नहीं।

 

सिर्फ जिंदा रहने को जिंदगी नहीं कहते,
कुछ गमे-मोहब्बत हो कुछ गमे-ज़हान हो।

 

 

Aaj Tak Hai Uske Laut Aane Ki Ummeed,
Aaj Tak Thahri Hai Zindgi Apni Jagah,
Laakh Yeh Chaha Ki Use Bhool Jayein Par,
Hausle Apni Jagah Bebasi Apni Jagah.

 

 

Baato Mein Talkhi Lehze Mein Bewafai,
Lo Ye Mohabbat Bhi Pahuchi Anjaam Par.

 

 

Sitam Ki Ye Intehaan Dekhe Zamana Bhi,
Ke Jispe Marte The Usee Ne Maar Dala.

 

Jab Nafrat Karte Karte Thak Jao,
Tab Ek Mauka Pyar Ko Bhi Dena.

 

 

Baat Unchi Thi Magar Baat Jara Kaam Aanki,
Mere Jazbaat Ki Aukaat Jara Kam Aanki,
Wo Farishta Keh Kar Mujhe Jaleel Karta Raha,
Main Insaan Hoon, Meri Jaat Jara Kam Aanki.

 

Khuda Salamat Rakhna Unhen,
Jo Hamase Nafrat Karte Hain,
Pyar Na Sahi Nafrat Hi Sahi,
Kuchh To Hai Jo Wo Hamse Karte Hain.

 

 

बात ऊँची थी मगर बात जरा कम आंकी,
मेरे जज्बात की औकात जरा कम आंकी,
वो फ़रिश्ता कहकर मुझे जलील करता रहा,
मैं इंसान हूँ मेरी जात जरा कम आंकी।

 

Ye Mat Kahna Ki Teri Yaad Se Rishta Nahin Rakha,
Main Khud Tanha Raha Par Dil Ko Tanha Nahin Rakha,
Tumhari Chahaton Ke Phool To Mahafooj Rakhe Hain,
Tumhari Nafaraton Ki Peed Ko Jinda Nahin Rakha.

 

 

मोहब्बत करने से फुरसत नहीं मिली यारो,
वरना हम करके बताते नफरत किसको कहते है।

 

 

कुछ जुदा सा है मेरे महबूब का अंदाज,
नजर भी मुझ पर है और नफरत भी मुझसे ही।

 

Ek Nafarat Hi Hai Jise,
Duniya Chand Lamhon Mein Jaan Leti Hai, Varana..
Chaahat Ka Yakeen Dilaane Mein To
Zindagi Beet Jaati Hai.

 

 

Wo Nafraten Paale Rahe Ham Pyar Nibhate Rahe,
Lo Ye Zindagi Bhi Kat Gayi Khali Haath Si.

 

 

Mahobbat Aur Napharat Sab Mil Chuke Hain Mujhe,
Main Ab Takareeban Mukammal Ho Chuka Hoon.

 

Phir Yoon Hua Ke Gair Ko Dil Se Laga Liya,
Andar Wo Nafaraten Thi Ke Baahar Ke Ho Gaye.

 

एक नफरत ही है जिसे,
दुनिया चंद लम्हों में जान लेती है, वरना..
चाहत का यकीन दिलाने में तो
ज़िन्दगी बीत जाती है।

 

 

Duriyon Ki Na Parwah Kijiye,
Dil Jab Bhi Pukare Hume Bula Lijiye,
Hum Zyada Dur Nahi Aapse,
Bas Apni Palkon Ko Aankhon Se Mila Lijiye.

 

Chala Jaoonga Main Dhundh Ke Baadal Ki Tarah,
Dekhte Rah Jaoge Mujhe Pagal Ki Tarah,
Jab Karte Ho Mujhse Itani Nafrat To Kyon,
Sajate Ho Aankho Mein Mujhe Kaajal Ki Tarah.

 

 

Gujare Hain Ishq Mein Ham Is Mukaam Se
Nafrat Si Ho Gai Hai Mohabbat Ke Naam Se
Ham Wo Nahin Jo Mohabbat Mein Ro Kar Ke
Zindagi Ko Gujaar De…
Agar Parchhai Bhi Teri Najar Aa Jaye
To Use Bhi Thokar Maar Den.

 

 

Dekh Kar Usko Tera Yun Palat Jaana,
Nafrat Bata Rahi Hai Toone Ishq Bemisaal Kiya Tha.

 

चला जाऊँगा मैं धुंध के बादल की तरह,
देखते रह जाओगे मुझे पागल की तरह,
जब करते हो मुझसे इतनी नफरत तो क्यों,
सजाते हो आँखो में मुझे काजल की तरह।

 

 

सजा न दे मुझे बेक़सूर हूँ मैं,
थाम ले मुझको ग़मों से चूर हूँ मैं,
तेरी दूरी ने कर दिया है पागल मुझे,
और लोग कहते हैं कि मगरूर हूँ मैं।

 

तुम नफरत का धरना कयामत तक जारी रखो,
मैं प्यार का इस्तीफा जिंदगी भर नहीं दूंगा।

 

न जाने कौन सा आँसू मेरा राज़ खोल दे,
हम इस ख़्याल से नज़रें झुकाए बैठे हैं।

 

लेकर के मेरा नाम मुझे कोसता तो है,
नफरत ही सही, पर वह मुझे सोचता तो है।

 

 

हाँ मुझे रस्म-ए-मोहब्बत का सलीक़ा ही नहीं,
जा किसी और का होने की इजाज़त है तुझे।

 

 

क्यूँ वो रूठे इस कदर कि मनाया ना गया,
दूर इतने हो गए कि पास बुलाया ना गया,
दिल तो दिल था कोई समंदर का साहिल नहीं,
लिख दिया जो नाम वो फिर मिटाया ना गया।

 

बेवफाओं की इस दुनियां में संभलकर चलना,
यहाँ मुहब्बत से भी बर्बाद कर देते हैं लोग।

 

 

Wo Waqt Gujar Gaya Jab Mujhe Teri Aarzoo Thi,
Ab Tu Khuda Bhi Ban Jaye To Main Sazda Na Karoon.

 

 

Agar Itni Hi Nafrat Hai Hamse To,
Dil Se Kuchh Aisee Dua Karo,
Ki Aaj Hi Tumhari Dua Bhi Poori Ho Jaaye,
Aur Hamari Zindagi Bhi.

 

 

काश कि हम उनके दिल पे राज़ करते,
जो कल था वही प्यार आज करते,
हमें ग़म नहीं उनकी बेवफाई का,
बस अरमां था कि…
हम भी अपने प्यार पर नाज़ करते।

 

कभी उसने भी हमें मोहब्बत का पैगाम लिखा था,
सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था,
सुना है आज उनको हमारे जिक्र से भी नफ़रत है,
जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था।

 

तुम नफरत करो या मोहब्बत,
दोनों हमारे हक में बेहतर हैं,
नफरत करोगे तो हम तुम्हारे दिमाग में,
मोहब्बत करोगे तो दिल में बस जायेंगे।

 

Na Sar-e-Bazar Dekhunga Na Usko Tanha Sochunga,
Usey Kehna Ki Laut Aaye Mohabbat Chhod Di Maine.

 

 

Chahte Hain Woh Har Roj Naya Chahne Wala,
Aye Khuda Mujhe Roj Ik Nayi Soorat De De.

 

नफरत करने वाले भी गज़ब का प्यार करते हैं मुझसे,
जब भी मिलते हैं कहते हैं कि तुझे छोड़ेंगे नहीं ।

 

 

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी,
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।

 

Teri Nafraton Ko Pyaar Ki Khushbu Bana Deta,
Mere Bas Mein Agar Hota Tujhe Urdu Sikha Deta.

 

 

Aaj Na Poochho Mujhse Meri Udaasi Ka Sabab,
Bas Seene Se Laga Kar Mujhe Rula De Koi.

 

 

Suno Ek Baar Mohabbat Karni Hai Tumse,
Lekin Iss Baar Bewafaai Hum Karenge.

 

तेरी नफरतों को प्यार की खुशबु बना देता,
मेरे बस में अगर होता तुझे उर्दू सिखा देता।

 

 

Suno Ek Baar Mohabbat Karni Hai Tumse,
Lekin Iss Baar Bewafaai Hum Karenge.

 

 

Kaam Aa Saki Na Apni Wafayein To Kya Karein,
Uss Bewafa Ko Bhool Na Jayein To Kya Karein.

 

 

Kaisi Ajeeb Tujhse Yeh Judai Thi,
Ki Tujhe Alvida Bhi Na Keh Saka,
Teri Saadgi Mein Itna Fareb Tha,
Ki Tujhe Bewafa Bhi Na Keh Saka.

 

 

कैसी अजीब तुझसे यह जुदाई थी,
कि तुझे अलविदा भी ना कह सका,
तेरी सादगी में इतना फरेब था,
कि तुझे बेवफा भी ना कह सका।

 

 

Kaisi Ajeeb Tujhse Yeh Judai Thi,
Ki Tujhe Alvida Bhi Na Keh Saka,
Teri Saadgi Mein Itna Fareb Tha,
Ki Tujhe Bewafa Bhi Na Keh Saka.

 

यूँ है सबकुछ मेरे पास बस दवा-ए-दिल नही,
दूर वो मुझसे है पर मैं उस से नाराज नहीं,
मालूम है अब भी मोहब्बत करता है वो मुझसे,
वो थोड़ा सा जिद्दी है लेकिन बेवफा नहीं।

 

Bewafai Ka Mausam Bhi
Ab Yahan Aane Laga Hai,
Wo Fir Se Kisi Aur Ko
Dekhkar Muskurane Laga Hai.

 

 

Gahrayi Pyar Mein Ho To Bewafai Nahin Hoti,
Sachche Pyar Mein Kahin Tanhayi Nahin Hoti,
Magar Pyar Zara Sambhal Kar Karna Mere Dost,
Pyar Ke Zakhm Ki Koyi Dava Nahin Hoti.

 

बेवफ़ाओं की महफ़िल लगेगी ऐ दिल-ए-जाना,
आज ज़रा वक़्त पर आना मेहमान-ए-ख़ास हो तुम।

 

रुशवा क्यों करते हो तुम इश्क़ को, ए दुनिया वालो,
मेहबूब तुम्हारा बेवफा है, तो इश्क़ का क्या गनाह।

 

Unhen Ehsaas Hua Hai Ishq Ka Hame Rulane Ke Baad,
Ab Ham Par Pyar Aaya Hai Door Chale Jaane Ke Baad,
Kya Bataen Kis Kadar Bewafa Hai Yeh Duniya,
Yahan Log Bhool Jaate Hain Kisi Ko Dafanane Ke Baad.

 

Aag Dil Me Lagi Jab Wo Khafa Huye,
Mehsoos Hua Tab, Jab Wo Juda Huye,
Kar Ke Wafa Kuchh De Na Sake Wo,
Bahut Kuch De Gaye Jab Wo Bewafa Huye.

 

 

मत रख हमसे वफा की उम्मीद ऐ सनम,
हमने हर दम बेवफाई पायी है,
मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान,
हमने हर चोट दिल पे खायी है।

 

उन्हें एहसास हुआ है इश्क़ का हमें रुलाने के बाद,
अब हम पर प्यार आया है दूर चले जाने के बाद,
क्या बताएं किस कदर बेवफ़ा है यह दुनिया,
यहाँ लोग भूल जाते हैं किसी को दफनाने के बाद।

 

 

Ai Dost Kabhi Zikr-E-Judai Na Karna,
Mere Bharose Ko Rusva Na Karna,
Dil Mein Tere Koyi Aur Bas Jaaye To Bata Dena,
Mere Dil Mein Rahkar Bewafai Na Karna.

 


Read More:-

Leave a Reply

Your email address will not be published.